Search Results for: अरस्तु

अरस्तु की दासता का सिद्धांत

            CONTENT: दास कौन है ?, दासता के पक्ष में अरस्तू के विचार, दासता के प्रकार, दास प्रथा में सुधार के लिए सूत्र , आलोचना अरस्तु के अनुसार दास प्रथा नगर राज्यों के संपूर्ण विकास के लिए अति आवश्यक है। दासों का तत्कालीन यूनानी समाज में एक महत्वपूर्ण योगदान है। …

अरस्तु की दासता का सिद्धांत Read More »

अरस्तु की क्रांति का सिद्धांत

                   CONTENT: क्रांति का अर्थ , क्रांतियों के प्रकार, क्रांतियों के उद्देश्य, क्रांति के कारण, क्रांतियों को रोकने के उपाय, आलोचनाएं,   क्रांति का अर्थ  अरस्तु की क्रांति संबंधी धारणा तथा हमारी आज की क्रांति संबंधित धारणा में महान अंतर है। किसी राज्य में जनता अथवा जनता …

अरस्तु की क्रांति का सिद्धांत Read More »

अरस्तु का आदर्श राज्य ( ideal state of aristotle )

                    CONTENT: आदर्श राज्य का उद्देश्य, आदर्श राज्य की विशेषताएं, आदर्श राज्य के आवश्यक तत्व, अरस्तु ने अपने ग्रंथ पॉलिटिक्स की सातवीं पुस्तक में अपने आदर्श राज्य का वर्णन किया है। अरस्तु के आदर्श राज्य का विचार उसका मौलिक विचार नहीं है। उसने मुख्य रूप से …

अरस्तु का आदर्श राज्य ( ideal state of aristotle ) Read More »

मैकियावेली आधुनिक राजनीतिक चिंतन का जनक

  मैकियावेली आधुनिक राजनीतिक चिंतन का जनक अधिकांश विद्वान मैकियावेली को आधुनिक युग का जनक मानते हैं। एक ओर उसे मध्ययुग का अंतिम विचारक कहा जा सकता है तो दूसरी ओर आधुनिक युग में प्रथम। मैकियावेली को आधुनिक युग का जनक कहने का तात्पर्य यही है कि आधुनिक युग मैकियावेली से प्रारंभ होता है और …

मैकियावेली आधुनिक राजनीतिक चिंतन का जनक Read More »

मैकियावेली के राज्य संबंधी विचार

  मैकियावेली के राज्य संबंधी विचार राज्य की उत्पत्ति : यद्यपि मैकियावेली ने राज्य की उत्पत्ति पर स्पष्ट रूप से अपने विचार व्यक्त नहीं किये हैं परंतु फिर भी यत्र तत्र इस विषय में उसके कुछ विचार पढ़ने को मिलते हैं। मैकियावेली राज्य की उत्पत्ति का कारण मनुष्य के आसुरी और स्वार्थी स्वभाव को मानता …

मैकियावेली के राज्य संबंधी विचार Read More »

जे. एस. मिल का स्वतंत्रता संबंधी विचार

         CONTENT परिचय, स्वतंत्रता पर निबंध लिखने की प्रेरणा, स्वतंत्रता की परिभाषा, स्वतंत्रता के दार्शनिक आधार, स्वतंत्रता के प्रकार, स्वतंत्रता पर सीमाएं , आलोचनाएं, परिचय – जॉन स्टूअर्ट मिल का स्वतंत्रता संबंधी विचार ऑन लिबर्टी (1859) नामक ग्रंथ में निहित है। मिल का स्वतंत्रता संबंधी ग्रंथ अंग्रेजी भाषा में स्वतंत्रता के समर्थन …

जे. एस. मिल का स्वतंत्रता संबंधी विचार Read More »

प्लेटो का साम्यवाद : संपत्ति और पत्नि

                   content: संपत्ति का साम्यवाद, संपत्ति के साम्यवाद की आलोचना, पत्नियों का साम्यवाद, आलोचना, प्लेटो ने अपने आदर्श राज्य के लक्ष्य की प्राप्ति हेतु दो साधनों को प्रतिपादित किया है – एक, राज्य नियंत्रित शिक्षा और दूसरा, संरक्षक वर्ग के लिए संपत्ति और पत्नियों का साम्यवाद। इस …

प्लेटो का साम्यवाद : संपत्ति और पत्नि Read More »

शक्ति पृथक्करण का सिद्धांत

  Theory of Separation of Power (शक्ति पृथक्करण का सिद्धांत)                     CONTENT: परिचय सिद्धांत की पृष्ठभूमि माॅण्टेस्क्यू सिद्धांत का प्रभाव सिद्धांत के पक्ष में तर्क सिद्धांत की आलोचना   परिचय – शक्ति पृथक्करण का सिद्धांत इस विचार पर आधारित है कि निरंकुश शक्तियों के मिल जाने …

शक्ति पृथक्करण का सिद्धांत Read More »

धर्म और नैतिकता पर मैकियावेली के विचार

धर्म और नैतिकता पर मैकियावेली के विचार मैकियावेली ने राजनीति को धर्म और नैतिकता से अलग किया। आधुनिक युग का आरंभ करने वाले पुनर्जागरण के प्रतिनिधि के रूप में वही सबसे पहला विचारक था, जिसने ऐसा किया। हम लोग धर्म और नैतिकता के संबंध में उसके विचारों को देखते हुए यह समझने का प्रयास करेंगे …

धर्म और नैतिकता पर मैकियावेली के विचार Read More »

राज्य और उसके तत्व

  राज्य और उसके तत्व( state and its element) राज्य का अर्थ एवं परिभाषा मध्ययुगीन परिभाषाएं राज्य के तत्व   राज्य का अर्थ एवं परिभाषा (meaning and definition) प्राचीन विचारकों के अनुसार– प्राचीन विचारक राज्य के 2 लक्षण मानते हैं। प्रथम राज्य व्यक्तियों का एक समुदाय है और द्वितीय राज्य व्यक्तियों के शुभ और लाभ …

राज्य और उसके तत्व Read More »

x
Scroll to Top