अरस्तु का आदर्श राज्य Read more

अरस्तु का आदर्श राज्य

  अरस्तु का आदर्श राज्य ( ideal state of aristotle )                   CONTENT आदर्श राज्य का उद्देश्य आदर्श राज्य की विशेषताएं आदर्श राज्य के आवश्यक तत्व अरस्तु ने अपने ग्रंथ पॉलिटिक्स की सातवीं पुस्तक में अपने आदर्श राज्य का वर्णन किया है। अरस्तु के आदर्श राज्य का […]

प्लेटो का दार्शनिक शासक Read more

प्लेटो का दार्शनिक शासक

  प्लेटो का दार्शनिक शासक                              CONTENT दार्शनिक शासक की विशेषताएं आलोचनाएं प्लेटो के अनुसार आत्मा के तीन तत्व – ज्ञान, साहस और वासना है। इन्हीं के अनुरूप समाज में ज्ञान प्रधान, भाव प्रधान और वासना प्रधान मनुष्य होते हैं। ज्ञान प्रधान […]

प्लेटो का आदर्श राज्य Read more

प्लेटो का आदर्श राज्य

  प्लेटो का आदर्श राज्य             CONTENT राज्य और व्यक्ति का संबंध आदर्श राज्य का निर्माण आदर्श राज्य की आलोचना प्लेटो का आदर्श राज्य सभी आने वाले समय और सभी स्थानों के लिए एक आदर्श का प्रस्तुतीकरण है। उसने आदर्श राज्य की कल्पना करते समय उसकी व्यवहारिकता की उपेक्षा की […]

प्लेटो का साम्यवाद : संपत्ति और पत्नि Read more

प्लेटो का साम्यवाद : संपत्ति और पत्नि

  प्लेटो का साम्यवाद : संपत्ति और पत्नि ( communism of plato : wives and property)                      content संपत्ति का साम्यवाद संपत्ति के साम्यवाद की आलोचना पत्नियों का साम्यवाद आलोचना प्लेटो ने अपने आदर्श राज्य के लक्ष्य की प्राप्ति हेतु दो साधनों को प्रतिपादित किया है – […]

प्लेटो का मुख्य ग्रंथ रिपब्लिक Read more

प्लेटो का मुख्य ग्रंथ रिपब्लिक

  प्लेटो का मुख्य ग्रंथ रिपब्लिक (platos republic) प्लेटो द्वारा राजदर्शन पर रचित सभी मुख्य ग्रंथों में से उसका ग्रंथ रिपब्लिक ( republic)सबसे मुख्य है, जिसे न्याय से संबंधित (concerning justice) के नाम से भी पुकारा जाता है क्योंकि प्लेटो ने इसके माध्यम से एक ऐसी आदर्श राज व्यवस्था का वर्णन किया है जो न्याय […]

ऐतिहासिक भौतिकवाद Read more

ऐतिहासिक भौतिकवाद

      इतिहास की आर्थिक व्याख्या का सिद्धांत (theory of economic interpretation)                 content परिचय समाज विकास की छः अवस्थाओं का वर्णन समाज की आर्थिक व्याख्या के निष्कर्ष आलोचना  परिचय – इतिहास की आर्थिक व्याख्या का सिद्धांत (theory of economic interpretation) अर्थात् ऐतिहासिक भौतिकवाद द्वंदात्मक भौतिकवाद के सिद्धांत […]

द्वंदात्मक भौतिकवाद Read more

द्वंदात्मक भौतिकवाद

                               CONTENT परिचय द्वंदात्मक पद्धति भौतिकवाद द्वन्दात्मक भौतिकवाद द्वन्दात्मक भौतिकवाद की विशेषताएं आलोचना मूल्यांकन परिचय –  द्वंदात्मक भौतिकवाद का सिद्धांत मार्क्स के संपूर्ण चिंतन का मूल आधार है। द्वंद का विचार मार्क्स ने हीगल से ग्रहण किया तथा भौतिकवाद का विचार […]

भीमराव अंबेडकर की जीवनी Read more

भीमराव अंबेडकर की जीवनी

     Biography of Bhimrao Ambedkar (भीमराव अंबेडकर की जीवनी)   भीमराव को अस्पृश्य मानी जाने वाली जाति में पैदा होने के कारण उन्हें जीवन भर अनेक कष्टों को झेलना पड़ा। उनका जन्म इंदौर के निकट महू छावनी में पिता भीम सकपाल के यहां 14 अप्रैल सन् 1891 को हुआ। पिता कबीर पंथ के अनुयाई […]

हाॅब्स का व्यक्तिवाद Read more

हाॅब्स का व्यक्तिवाद

  हाॅब्स का व्यक्तिवाद  (Hobbes’s individualism)   हरमन का कथन है कि “यद्यपि हाॅब्स उन प्रतिबंधों को स्वीकार करता है, जिन्हें संप्रभु, व्यक्ति पर आरोपित कर सकता है तथापि उसके सिद्धांत में व्यक्तिवाद के शक्तिशाली तत्व मौजूद हैं। सेबाइन के अनुसार “लाॅक का पूर्वगामी होने के चलते हाॅब्स को पहला दार्शनिक माना जाता है, जिसके […]

राज्य की उत्पत्ति Read more

राज्य की उत्पत्ति

  राज्य की उत्पत्ति (Origin of state) कौटिल्य   कौटिल्य के अनुसार सृष्टि के प्रारंभ में मनुष्य प्राकृतिक अवस्था में रहता था। हाॅब्स के समान कौटिल्य उस प्राकृतिक अवस्था को राज्यविहीन, कानून विहीन तथा अनैतिकतापूर्ण मानता है। पूर्व काल में एक समय ऐसा भी था, जब मत्स्य न्याय का प्रचलन था। जिस प्रकार बड़ी मछली […]