पश्चिमी विचारक

मैकियावेली आधुनिक राजनीतिक चिंतन का जनक

  मैकियावेली आधुनिक राजनीतिक चिंतन का जनक अधिकांश विद्वान मैकियावेली को आधुनिक युग का जनक मानते हैं। एक ओर उसे मध्ययुग का अंतिम विचारक कहा जा सकता है तो दूसरी ओर आधुनिक युग में प्रथम। मैकियावेली को आधुनिक युग का जनक कहने का तात्पर्य यही है कि आधुनिक युग मैकियावेली से प्रारंभ होता है और …

मैकियावेली आधुनिक राजनीतिक चिंतन का जनक Read More »

मैकियावेली अपने युग का शिशु

  मैकियावेली अपने युग का शिशु के रूप में  सामान्यतः प्रत्येक दार्शनिक एवं विद्वान अपने युग का शिशु होता है क्योंकि उसके चिंतन पर समकालीन परिस्थितियों, घटनाओं एवं प्रचलित विचारधाराओं का प्रभाव पड़ता ही है और वह अपने देश और काल के रंग में रंगा होता है, परंतु फिर भी राजनीतिक विचारों के इतिहास में …

मैकियावेली अपने युग का शिशु Read More »

मैकियावेली के विधि और विधि निर्माता संबंधी विचार

विधि के संबंध में मैकियावेली के विचार अत्यंत ही संकुचित हैं। वह मध्यकालीन विचारकों की तरह प्राकृतिक अथवा दैवीय विधियों में विश्वास नहीं करता है। वह केवल नागरिक विधियों की कल्पना करता है, जो शासक के द्वारा बनायी जाती है। उसके अनुसार राज्य की स्थापना के पूर्व कोई कानून अथवा व्यवस्था का अस्तित्व नहीं था। …

मैकियावेली के विधि और विधि निर्माता संबंधी विचार Read More »

मैकियावेली के राज्य संबंधी विचार

  मैकियावेली के राज्य संबंधी विचार राज्य की उत्पत्ति : यद्यपि मैकियावेली ने राज्य की उत्पत्ति पर स्पष्ट रूप से अपने विचार व्यक्त नहीं किये हैं परंतु फिर भी यत्र तत्र इस विषय में उसके कुछ विचार पढ़ने को मिलते हैं। मैकियावेली राज्य की उत्पत्ति का कारण मनुष्य के आसुरी और स्वार्थी स्वभाव को मानता …

मैकियावेली के राज्य संबंधी विचार Read More »

हीगल का द्वन्द्ववाद का विचार

              CONTENT हीगल का द्वन्द्ववाद का विचार द्वन्द्ववाद की आलोचना द्वन्द्ववाद का महत्व हीगल का द्वन्द्ववाद का विचार उसके सभी महत्वपूर्ण विचारों में से एक प्रमुख विचार है। यह विश्व इतिहास की सही व्याख्या करने का सबसे अधिक सही उपकरण है। हीगल ने इस उपकरण की सहायता से अपने दार्शनिक …

हीगल का द्वन्द्ववाद का विचार Read More »

मिल की प्रतिनिधि शासन संबंधी अवधारणा

             सन्दर्भ  परिचय, प्रजातंत्र के पक्ष में तर्क, प्रजातंत्र के प्रकार, प्रतिनिधि शासन का सिद्धांत, सरकार के कार्य, सच्चे प्रजातंत्र के लिए सुझाव, आलोचनाएं, परिचय – मिल ने प्रजातांत्रिक शासन व्यवस्था पर अपने विचार अपनी पुस्तक प्रतिनिधि शासन (representative government) में व्यक्त किया है। मिल ने शासन की उस प्रणाली …

मिल की प्रतिनिधि शासन संबंधी अवधारणा Read More »

जे. एस. मिल का स्वतंत्रता संबंधी विचार

         CONTENT परिचय, स्वतंत्रता पर निबंध लिखने की प्रेरणा, स्वतंत्रता की परिभाषा, स्वतंत्रता के दार्शनिक आधार, स्वतंत्रता के प्रकार, स्वतंत्रता पर सीमाएं , आलोचनाएं, परिचय – जॉन स्टूअर्ट मिल का स्वतंत्रता संबंधी विचार ऑन लिबर्टी (1859) नामक ग्रंथ में निहित है। मिल का स्वतंत्रता संबंधी ग्रंथ अंग्रेजी भाषा में स्वतंत्रता के समर्थन …

जे. एस. मिल का स्वतंत्रता संबंधी विचार Read More »

उपयोगितावाद का सिद्धांत : बेंथम

उपयोगितावाद का सिद्धांत : बेंथम ( theory of utilitarianism : bentham )                     संदर्भ : उपयोगितावाद का अर्थ, उपयोगितावाद सिद्धांत के कुछ महत्वपूर्ण बिंदु , उपयोगितावाद की आलोचनाएं, उपयोगितावाद का सिद्धांत बेंथम की सबसे महत्वपूर्ण एवं अमूल्य देन है। उसके अन्य सभी राजनीतिक विचार उसके उपयोगितावाद …

उपयोगितावाद का सिद्धांत : बेंथम Read More »

अरस्तु की दासता का सिद्धांत

            CONTENT: दास कौन है ?, दासता के पक्ष में अरस्तू के विचार, दासता के प्रकार, दास प्रथा में सुधार के लिए सूत्र , आलोचना अरस्तु के अनुसार दास प्रथा नगर राज्यों के संपूर्ण विकास के लिए अति आवश्यक है। दासों का तत्कालीन यूनानी समाज में एक महत्वपूर्ण योगदान है। …

अरस्तु की दासता का सिद्धांत Read More »

अरस्तु की क्रांति का सिद्धांत

                   CONTENT: क्रांति का अर्थ , क्रांतियों के प्रकार, क्रांतियों के उद्देश्य, क्रांति के कारण, क्रांतियों को रोकने के उपाय, आलोचनाएं,   क्रांति का अर्थ  अरस्तु की क्रांति संबंधी धारणा तथा हमारी आज की क्रांति संबंधित धारणा में महान अंतर है। किसी राज्य में जनता अथवा जनता …

अरस्तु की क्रांति का सिद्धांत Read More »

x
Scroll to Top