द्वंदात्मक भौतिकवाद

 

                             CONTENT

  • परिचय
  • द्वंदात्मक पद्धति
  • भौतिकवाद
  • द्वन्दात्मक भौतिकवाद
  • द्वन्दात्मक भौतिकवाद की विशेषताएं
  • आलोचना
  • मूल्यांकन

परिचय –  द्वंदात्मक भौतिकवाद का सिद्धांत मार्क्स के संपूर्ण चिंतन का मूल आधार है। द्वंद का विचार मार्क्स ने हीगल से ग्रहण किया तथा भौतिकवाद का विचार फ्यूअरबाख से लिया। क्योंकि इस सिद्धांत का प्रतिपादन दो विचारों द्वंद तथा भौतिकवाद के सम्मिश्रण से हुआ है। अतः इसको सही ढंग से समझाने के लिए दोनों विचारों की संक्षिप्त जानकारी आवश्यक है।

द्वंदात्मक पद्धति द्वंदात्मक पद्धति का सर्वप्रथम प्रतिपादन हीगल द्वारा अपनी विश्वात्मा (world spirit) संबंधी मान्यता को सिद्ध करने के लिए किया गया था। इस दृष्टि से उसने द्वंद को वैचारिक द्वंद के रूप में प्रतिपादित कर यह स्पष्ट करने का प्रयास किया कि किसी विचार के उत्पन्न और परिमार्जित होने की प्रक्रिया क्या है। हीगल की इस द्वंदात्मक पद्धति को स्पष्ट करने हेतु हंट का कथन है कि – द्वंदात्मक प्रक्रिया वाद (thesis), प्रतिवाद(antithesis) तथा संवाद(synthesis) की प्रक्रिया है। वाद एक विचार की पुष्टि करता है, प्रतिवाद उसका निषेध करता है और ‘संवाद’ वाद और प्रतिवाद में जो सत्य है उसे स्वयं में समाहित करता है। इस तरह वह हमें यथार्थ के अधिक निकट ले आता है, लेकिन जैसे ही हम संवाद को अधिक निकट से देखते हैं तो हमें ज्ञात होता है कि वह अभी भी अपूर्ण है। अतः वह पुनः वाद का रूप धारण कर लेता है और पुनः वहीं पूर्व की संघर्ष की प्रक्रिया को प्रारंभ कर देता है। फलत: उसका प्रतिवाद द्वारा निषेध होता है और संवाद में पुनर्मिलन होता है। इस प्रकार यह त्रिकोणात्मक विकास प्रक्रिया तब तक चलती रहती है जब तक कि तत्व या विचार आदर्श रूप ग्रहण नहीं कर लेता है।”

इस प्रकार हीगल के अनुसार वैचारिक विकास की यह प्रक्रिया वाद, प्रतिवाद और संवाद के माध्यम से तब तक चलती रहती है, जब तक विचार सारे अंतर्विरोधों से मुक्त होकर आदर्श रूप धारण नहीं कर लेता है।

  भौतिकवाद मार्क्स ने भौतिकवाद का प्रयोग द्वंदवाद को एक नई दिशा देने के लिए किया , जो हीगल की वैचारिक द्वंद पद्धति से भिन्न है। भौतिकवाद के महत्व को स्पष्ट करते हुए उसने घोषित किया कि सृष्टि का उद्गम, विकास और अंत सभी इंद्रियों से दृष्टिगत होने वाले पदार्थों पर आधारित है। वह हीगल की तरह आत्मा परमात्मा जैसी अदृश्य वस्तुओं के अस्तित्व पर विश्वास नहीं करता। वह प्रत्यक्ष दिखाई देने वाले पदार्थों को ही सत्य के रूप में स्वीकार करता है और उनके माध्यम से दृष्टि निर्माण और उसे संचालन की विभिन्न नियमों का प्रतिपादन करता है अपनी इस मान्यता को स्पष्ट करते हुए वह कहता है कि – “यह पदार्थ जो बाहर से हमें जड़ या स्थिर दिखाई देता है वास्तव में जड़ या स्थिर नहीं है। यह पदार्थ अपनी आंतरिक सचेतना या सक्रियता के कारण निरंतर गतिशील है और उसकी यह गतिशीलता ही उसे निरंतर उर्धमुखी परिवर्तनशीलता की ओर उन्मुख किए हुए है। इसका एक क्रमिक प्रवाह है।”

इस प्रकार मार्क्स विचार की नहीं, पदार्थ की विकासशील शक्ति में विश्वास व्यक्त करते हुए उसके माध्यम से ही मानव समाज की परिवर्तन प्रक्रिया और विकास की गतिशीलता को सिद्ध करता है। पदार्थ उसके अनुसार स्वचेतन और गतिशील है और अपने में निहित अंतर्द्वंद के माध्यम से सतत् ऊर्ध्वमुखी विकास की ओर अग्रसर है। व्यक्तिगत और सामाजिक विकास का यही मुख्य कारण है।

द्वन्दात्मक भौतिकवाद मार्क्स ने मानव सभ्यता के ऐतिहासिक विकास को दर्शाने के स्थान पर पदार्थ को स्थापित कर दिया। इस संशोधन को स्पष्ट करते हुए स्वयं मार्क्स का कथन है कि ईगल के लेखन में द्वंद्ववाद सिर के बल खड़ा है यदि आप रचनात्मकता के आवरण में छिपे उसके सारे तत्व को देखना चाहते हैं तो आपको उसे पैरों के बल (अर्थात भौतिक आधार पर) सीधा खड़ा करना पड़ेगा। इस प्रकार मार्क्स ने भौतिकवाद का पुट देकर हीगल के द्वंदवाद को शीर्षासन की अप्राकृतिक स्थिति से मुक्त कर दिया और उसे सामाजिक विश्लेषण का एक उपयोगी औजार बना दिया।

मार्क्स अपनी इस पद्धति को स्पष्ट करते हुए आगे कहता है कि “पदार्थ अर्थात् भौतिक जगत द्वंद्वात्मक पद्धति के माध्यम से अपनी पूर्णता की यात्रा पर अग्रसर है। उसके विभिन्न रूप उसकी इस यात्रा के विभिन्न पड़ाव है। अतः मार्क्स का भौतिकवाद अन्य भौतिकवादियों के भौतिकवाद की तरह यांत्रिक नहीं वरन् द्वंद्वात्मक चरित्र का है। उसके अनुसार विकास पदार्थ का आंतरिक गुण है बाहरी नहीं। वह स्वत: होता है चाहे बाहरी वातावरण उसका सहायक हो या न हो।”

द्वंद्वात्मक भौतिकवाद के आधार पर मार्क्स यह मत प्रतिपादित करता है कि विश्व अपने स्वभाव से ही पदार्थवादी है। अतः विश्व के विभिन्न रूप गतिशील पदार्थ के विकास के विभिन्न रूपों का प्रतिनिधित्व करते हैं। यह विकास द्वंद्वात्मक पद्धति के माध्यम से होता है। अतः भौतिक विकास प्राथमिक महत्व का है और आत्मिक विकास द्वितीय महत्व का है। वास्तव में आत्मिक विकास भौतिकी विकास का प्रतिबिंब मात्र है। इसी आधार पर वह यह कहता है कि मनुष्यों की चेतना उनके सामाजिक स्तर को निर्धारित नहीं करती है वरन् उनका सामाजिक स्तर उनकी चेतना (thinking) को निर्धारित करता है।’

द्वन्दात्मक भौतिकवाद की विशेषताएं –

1. आंगिक एकता विश्व का चरित्र भौतिक है तथा उसकी वस्तुएं और घटनाएं एक दूसरे से पूर्णतः संबद्ध है। अतः उसके महत्व को निरपेक्षता के आधार पर नहीं सापेक्षता के आधार पर ही समझा जा सकता है अर्थात् प्रकृति के सभी पदार्थों में आंगिक एकता पाई जाती है।

2. गतिशीलता प्रकृति में पाया जाने वाला प्रत्येक पदार्थ जड़ या स्थिर न होकर गतिशील होता है।

3. परिवर्तनशीलता पदार्थिक शक्तियां सामाजिक विकास की प्रेरक शक्तियां हैं। वे गतिशील ही नहीं, परिवर्तनशील भी हैं। अतः सामाजिक विकास भी उन्हीं के अनुरूप परिवर्तनशील है। परिवर्तन की यह प्रक्रिया द्वंदवाद के माध्यम से चलती है।

4. परिमाणात्मक परिवर्तन गुणात्मक परिवर्तन के कारक होते हैं निरंतर होने वाले परिवर्तन प्रारंभ में परिमाणात्मक (quantitative) चरित्र के होते हैं तथा धीरे-धीरे घटित होते हैं तथा जब उनकी मात्रा बढ़ जाती है तो एकाएक वह गुणात्मक (qualitative) परिवर्तन में बदल जाते हैं। गेहूं का बीज इसका अच्छा उदाहरण है। गेहूं के बीज को बोया जाना वाद है, उसका अंकुरण प्रतिवाद है, और धीरे-धीरे गेहूं के पौधे का बड़ा होना और उसकी बाली का पकना संवाद है। गेहूं के एक दाने का बाली के माध्यम से बहुत से दाने में परिवर्तन उसके मात्रात्मक परिवर्तन से गुणात्मक परिवर्तन का प्रतीक है। बीज के रूप में गेहूं का बोया जाना, उसका अंकुरण होना उसका पौधा बनना तथा बाली पकना और एक से अनेक दाने हो जाना यह द्वंद्वात्मक प्रक्रिया का ही अच्छा उदाहरण नहीं है, वरन् मात्रात्मक से गुणात्मक परिवर्तन का भी एक अच्छा उदाहरण है।

5. क्रांतिकारी प्रक्रिया परिमाणात्मक परिवर्तन के गुणात्मक परिवर्तन में अभिव्यक्त होने की प्रक्रिया को एक क्रांतिकारी प्रक्रिया माना जाता है, जो एक छलांग के रूप में होती है अर्थात् वह एक मौलिक परिवर्तन की निशानी होती है।

6. सकारात्मक नकारात्मक संघर्ष हर वस्तु में उसके विरोधी तत्व विद्यमान होते हैं जो समय पाकर अभिव्यक्त होते हैं। उनमें होने वाले संघर्ष से वह वस्तु नष्ट हो जाती है और नई वस्तु उसका स्थान ले लेती है, जो पहले वाली वस्तु से अधिक विकसित होती है तथा जो विकास के क्रम की निरंतरता को बनाए रखती है।

मार्क्स के अनुसार इस प्रकार कार्य करते हुए द्वंद्वात्मक भौतिकवाद पद्धति विश्व तथा मानव सभ्यता के विकास को समझने में हमारे लिए एक पथ प्रदर्शक सूत्र या यंत्र का कार्य करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *