राज्य की उत्पत्ति

  राज्य की उत्पत्ति (Origin of state) कौटिल्य   कौटिल्य के अनुसार सृष्टि के प्रारंभ में मनुष्य प्राकृतिक अवस्था में रहता था। हाॅब्स के समान कौटिल्य उस प्राकृतिक अवस्था को राज्यविहीन, कानून विहीन तथा अनैतिकतापूर्ण मानता है। पूर्व काल में एक समय ऐसा भी था, जब मत्स्य न्याय का प्रचलन था। जिस प्रकार बड़ी मछली …

राज्य की उत्पत्ति Read More »

थाॅमस हाॅब्स की जीवनी

  Biography of Thomas Hobbes ( थाॅमस हाॅब्स की जीवनी)   हाॅब्स का जन्म 1588 ई. में इंग्लैंड के दक्षिणी तट पर स्थित मेम्सबरी( maimsbury) नामक नगर में हुआ था। उसके जन्म के पूर्व स्पेन की जनसेना (Armada) ने इंग्लैंड पर आक्रमण किया था। सभी लोग भयाक्रांत थे। कहा जाता है कि भय के वातावरण …

थाॅमस हाॅब्स की जीवनी Read More »

मौलिक कर्तव्य

  Fundamental duties (मौलिक कर्तव्य)   भारत के मूल संविधान में केवल मूल अधिकारों को ही शामिल किया गया था, जबकि मौलिक कर्तव्य प्रारंभ में संविधान में उल्लेखित नहीं था। ऐसी आशा की जाती थी, कि भारत के नागरिक स्वतंत्र भारत में अपने कर्तव्यों की पूर्ति स्वेक्षा से करेंगे, किंतु 42 वें संशोधन अधिनियम 1976 …

मौलिक कर्तव्य Read More »

मौलिक अधिकार

  भारतीय नागरिकों के मौलिक अधिकार (fundamental rights of the Indian citizen)   मौलिक अधिकारों का अर्थ – वे अधिकार जो व्यक्ति के जीवन के लिए अनिवार्य होने के कारण संविधान द्वारा नागरिकों को प्रदान किए जाते हैं, और जिन अधिकारों में राज्य द्वारा भी हस्तक्षेप नहीं किया जा सकता, मौलिक अधिकार कहलाते हैं। किसी …

मौलिक अधिकार Read More »

मैकियावेली की मानव स्वभाव संबंधी विचार

मानव स्वभाव संबंधी विचार (views on human nature) machiavelli मैकियावेली ने मानव स्वभाव को पतित और विकृत बताया है। उसके अनुसार मनुष्य चंचल, धोखेबाज, चंचल, लालची तथा संकट से बचने वाला होता है। वह अपने लाभ एवं स्वार्थों की पूर्ति के लिए दूसरों का साथ पकड़ता है। वह एक खास सीमा तक अपनी संपत्ति, जीवन, …

मैकियावेली की मानव स्वभाव संबंधी विचार Read More »

धर्म और नैतिकता पर मैकियावेली के विचार

धर्म और नैतिकता पर मैकियावेली के विचार मैकियावेली ने राजनीति को धर्म और नैतिकता से अलग किया। आधुनिक युग का आरंभ करने वाले पुनर्जागरण के प्रतिनिधि के रूप में वही सबसे पहला विचारक था, जिसने ऐसा किया। हम लोग धर्म और नैतिकता के संबंध में उसके विचारों को देखते हुए यह समझने का प्रयास करेंगे …

धर्म और नैतिकता पर मैकियावेली के विचार Read More »

ऐतिहासिक या विकासवादी सिद्धांत

  परिचय(introduction) – अब तक राज्य की उत्पत्ति के संबंध में जिन सिद्धांतों का प्रतिपादन किया गया, उनमें दैवी सिद्धांत, शक्ति सिद्धांत, सामाजिक समझौता सिद्धांत, पैत्रक सिद्धांत और मात्रक सिद्धांत हैं, लेकिन राज्य की उत्पत्ति की व्याख्या के रूप में इनमें से किसी भी सिद्धांत को स्वीकार नहीं किया जा सकता। दैवीय शक्ति सिद्धांत और …

ऐतिहासिक या विकासवादी सिद्धांत Read More »

सामाजिक समझौते का सिद्धांत: हाब्स,लाॅक,रूसो

   सामाजिक समझौते का सिद्धांत (social contract theory)             CONTENT : परिचय, इस सिद्धांत का विकास, थांमस हाब्स (1588 – 1679), जाॅन लाॅक (1632 – 1704), जीन जेकस रूसो (1712-1767), सामाजिक समझौता सिद्धांत की आलोचना,   परिचय – राज्य की उत्पत्ति के संबंध में सामाजिक समझौता सिद्धांत बहुत अधिक महत्वपूर्ण …

सामाजिक समझौते का सिद्धांत: हाब्स,लाॅक,रूसो Read More »

शक्ति सिद्धांत

  शक्ति सिद्धांत(force theory)   परिचय – शक्ति सिद्धांत के अनुसार राज्य एक ईश्वरीय संस्था नहीं वरन् एक मानवीय संस्था है, जिसकी उत्पत्ति बल प्रयोग के आधार पर हुई है। बल प्रयोग ही राज्य की उत्पत्ति का कारण और वर्तमान समय में राज्य के अस्तित्व का आधार है। राज्य उच्च शक्ति का परिणाम है और …

शक्ति सिद्धांत Read More »

शिक्षा का सिद्धांत-प्लेटो

  शिक्षा का सिद्धांत (Theory of knowledge)   प्लेटो की रिपब्लिक केवल सरकार के संबंध में लिखी गई पुस्तक नहीं है, जैसा कि रूसो कहता है यह शिक्षाशास्त्र का प्रबंध ग्रंथ है। उसके सारे दर्शन का सार जैसा, कि रिपब्लिक में बताया गया है, प्राचीन यूनानी समाज में सुधार लाना था। रिपब्लिक का उद्देश्य न्याय …

शिक्षा का सिद्धांत-प्लेटो Read More »

Scroll to Top